पठानकोट,(बिट्टा काटल): 121वीं वाहिनी सीमा सुरक्षा बल द्वारा सीमा चौकी कमलजीत मे शहिदे आजम भगत सिंह, शिवराम राजगुरू, सुखदेव थापर जी के शहिदी दिवस के उपलक्ष्य में रंगारंग कार्यक्रम, हथियार प्रदर्शनी, डॉग शो का आयोजन किया गया। सीमा चौकी कमलजीत में भारत के वीर सपूतों के बलिदान को याद करते हुए, महान शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए सुनील कुमार मिश्रा, समादेष्टा 121वीं वाहिनी सीमा सुरक्षा बल ने आए हुए रवीन्द्र सिंह, शहीद परिवार परिषद के महासचिव, परिवार व स्थानिक लोग, ग्रीन लैंड़ पब्लिक स्कूल दिनानगर, एसएस कॉलेज पठानकोट, शहीद कर्नल के.एल गुप्ता सीनियर सेनीयर स्कूल, स्कूल के छात्रों को प्रेरित करते हुए महान शहीद देश भक्तों के ऊपर चर्चा करते हुए गतिविधियों का महत्व बताते हुए विभिन्न कार्यक्रम का आयोजन किया। जिसमें छात्रों ने बढ़ चढक़र भाग लिया। रवीन्द्र सिंह, शहीद परिवार परिषद के महासचिव ने शहीदों को श्रद्धांजलि स्वरूप अपने विचार प्रकट किए। सुनील कुमार मिश्रा, समादेष्टा 121वीं वाहिनी सीमा सुरक्षा बल बताया कि आज हम के जिस खुली व आजाद हवा में सांस को ले रहे है, यह उन्हीं वीर शहीदों की कुर्बानियों का परिणाम है। 23 मार्च को भारत के तीन असाधारण स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान को याद करने के लिए शहीदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन वर्ष 1931 में अंग्रेजों ने भारतीय युवा क्रांतिकारियों भगत सिंह, शिवराम राजगुरु, सुखदेव सिंह को फांसी पर लटकाया था। मात्र 23 वर्ष की आयु में हंसते-हंसते ये नौजवान देश के लिए कुर्बान हो गए थे। भारत की आजादी की लड़ाई के इतिहास में यह एक महत्वपूर्ण घटनाओं में दर्ज है। इस मौके पर आलोक सिंह नेगी उप समादेष्टा, विवेक कुमार सहायक समादेष्टा निरीक्षक, कंवरपाल सिंह अधिनस्थ अधिकारीगण, जवान, स्कूल के प्रिसिंपल, अध्यापक, छात्र, स्थानीय लोग आदि उपस्थित थे।

Previous articleशहीद-ए -आजम भगत सिंह, राजगुरू तथा सुखदेव के सपनों का भारत सिरजने के लिए करें प्रयास : खन्ना
Next articleअमर शहीद भगत सिंह,राजगुरु तथा सुखदेव को भेंट की गईं श्रृद्धाजंलियां