अधिक से अधिक पौधारोपण तथा उनकी संभाल का भी दिया गया संदेश

दसूहा,(राजदार टाइम्स): सतगुरु माता सुदीक्षा महाराज की कृपा तथा दिशा निर्देशों अनुसार संयोजक महात्मा डा.सुरिंदर पाल सिंह के योग्य नेतृत्व में संत निरंकारी सत्संग भवन भट्टी का गांव में बाल समागम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर बच्चों ने बाल समागम में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया तथा बच्चों ने सकिट, शब्द गायन, नाटक, कविताएं, एक्शन सॉन्ग, गिद्दा–भांगड़ा, ग्रुप गीत, संपूर्ण अवतार वाणी तथा संपूर्ण हरदेव वाणी के शब्दों के साथ संगत को प्यार, निमार्ता, सहनशीलता तथा सतगुरु माता सुदीक्षा महाराज के संदेशों को कर्म रूप में जन-जन तक पहुंचाने का संदेश दिया तथा साथ ही धरती पर बढ़ रही गर्मी को देखते हुए अधिक से अधिक पौधे लगाने तथा उनकी संभाल करने के लिए भी संगत को प्रेरित किया। संयोजक दसूहा ने स्टेज से अपने वचन फरमाते हुए कहा के बच्चे कच्ची मिट्टी की तरह होते हैं, उनको जिस सांचे में ढाला जाए वह उसी सांचे में ढल जाते हैं। उन्होंने कहा कि हमें बच्चों की परवरिश बढ़िया ढंग से करनी चाहिए ताकि वह अच्छे मानवी गुणो को धारण करके तथा उच्च स्तरीय विद्या हासिल करके बढ़िया इंसान बन सके। उन्होंने कहा कि संत निरंकारी मिशन आज बच्चों को छोटी आयु से ही इस ब्रह्म ज्ञान के साथ जोड़कर इनका आने वाला समय संवार रहा है। आज के बच्चे जब ज्ञान के मार्ग पर चलेंगे उनके परिवारों में, समाज में, देश में तथा दुनिया में ज्ञान की रोशनी और फैलेगी तथा बहिम, भरम, नफरत की दीवारें, अंधकार दूर होगा फिर दुनिया में प्यार, निमार्ता, आपसी भाईचारा, अमन, शांति जो समय की आवश्यकता है। उसको कायम करने में सार्थक सिद्ध होंगे तथा गुरमत के रास्ते पर चलते हुए बच्चे धरती को स्वर्ग का नक्शा बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों को अधिक से अधिक शिक्षा ग्रहण करनी चाहिए। संचालक प्रकाश सिंह के अतिरिक्त क्षेत्रीय संचालक दलजीत कुमार, बलजीत सिंह सहायक शिक्षक तथा अन्य ने भी संगत को संबोधित किया। इस अवसर पर बड़ी गिनती में श्रद्धालु उपस्थित थे तथा बच्चों द्वारा बाल प्रदर्शनी भी लगाई गई जिसमें अलग-अलग तरह के मॉडल बच्चों द्वारा तैयार किए गए। इस अवसर पर बच्चों को सम्मानित भी किया गया।

Previous articleबेलगाम आवारा कुत्तों के आतंक से लोग परेशान
Next articleगुरुद्वारा श्री हरि जी सहाय से संगत गुरुधामों की यात्रा के लिए हुई रवाना