होशियारपुर,(तरसेम दीवाना): आईवीएफ के तहत बच्चे का जन्म होने पर सरकार द्वारा इसकी रिपोर्ट का मांगा जाना कानूनी प्रक्रिया का हिस्सा है क्योंकि, आईवीएफ कहां से करवाया गया है। यह जानकारी होनी जरुरी होती है तथा जिस देश से आईवीएफ हो बच्चे के जन्म को बाद उस पर वहां का कानून लागू होता है। लेकिन सिद्धू मूसेवाला के माता पिता बलकौर सिंह व चरण कौर से केन्द्र द्वारा आईवीएफ की रिपोर्ट मांगने पर जो विवाद छिड़ा हुआ है वह राजनीति से प्रेरित है तथा यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। यह बात सामाजिक जागरुकता हेतु कार्यरत संस्था सवेरा के अध्यक्ष डा. अजय बग्गा ने आज यहां जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कही। उन्होंने कहा कि बलकौर सिंह व चरण कौर के घर आए नवजात का हम स्वागत करते हैं तथा जो भी बच्चा संसार में आता है उसका स्वागत करना हमारा दायित्व है। परन्तु उक्त नवजात के जन्म को लेकर हो रही राजनीति बहुत ही दुखद है। यह परिवार और सरकार का मामला है तथा कानून के तहत ही सरकार ने जानकारी मांगी है, जिस पर परिवार द्वारा कोई एतराज नहीं जताया गया है। लेकिन राजनीतिक रंगत देकर इसे विवाद बनाया जा रहा है। कानूनन सरकार को यह जानकारी होनी चाहिए कि आईवीएफ देश में करवाया गया है या विदेश से। अगर विदेश से करवाया गया है या गलत आईवीएफ हुआ है तो एसे में विदेश में करवाए गए आईवीएफ पर हमारे देश का कानून लागू नहीं होता। इसलिए इस कानूनी प्रक्रिया को बेवज़ह विवाद का रुप देकर परिवार को मिली खुशियों पर ग्रहण नहीं लगाया जाना चाहिए।

Previous articleराजेश शर्मा चुने गए भारत विकास परिषद केशव शाखा के अध्यक्ष
Next articleਸਿੱਧੂ ਮੂਸੇਵਾਲਾ ਦੇ ਪਰਿਵਾਰ ਚ’ ਨਵ ਜੰਮੇ ਬੱਚੇ ਬਾਰੇ ਜਾਣਕਾਰੀ ਮੰਗਣੀ ਬਿਮਾਰ ਮਾਨਸਿਕਤਾ ਦਾ ਪ੍ਰਗਟਾਵਾ : ਖੁਣਖੁਣ/ਸਿੰਗੜੀਵਾਲਾ