मुकेरियां,(राजदार टाइम्स): स्वामी प्रेमानंद महाविद्यालय के स्नातकोत्तर गणित विभाग द्वारा विश्व पाई दिवस को समर्पित एक विशेष कार्यक्रम आयोजित किया गया। करवाए गए कार्यक्रम में मैथेमेटिकल सोसाईटी के इंचार्ज प्रो.सुखविंदर ने कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रिंसिपल डॉ.समीर शर्मा का स्वागत किया और कार्यक्रम के विषय का उपस्थापन किया। उन्होंने छात्रों को गणित संबंधी महत्वपूर्ण भारतीय खोज व संभावित अनुसंधान के विषय में विस्तार से बताया। मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित प्रिंसिपल डॉ.समीर शर्मा ने सभी छात्रों को पाई के महत्व के विषय में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पाई चिन्ह या टर्म 1706 में एक मैथमेटिशियन विलियम जोन्स द्वारा पेश किया गया था। गणित का यह चिन्ह 1737 में लोकप्रिय हुआ। इसके इस्तेमाल को लोकप्रिय बनाने का क्रेडिट लियोनहार्ड यूलर को जाता है। गणित विभाग के अध्यक्ष प्रो.पीके सिंगला ने भारतीय विद्वान भारती कृष्ण तीर्थ महाराज के वैदिक गणित के सिद्धांतों पर भी विशेष प्रकाश डाला। उन्होंने वैदिक अंक गणित की भी विस्तार के साथ चर्चा की। स्नातकोत्तर गणित विभाग के छात्रों द्वारा भी अपने विचार सांझे किए गए और इस संबंधी पोस्टर प्रदर्शन किए गए। अंत में गणित विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर पीके सिंगला ने कॉलेज प्रबंधन समिति और कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ.समीर शर्मा का इस कार्यक्रम को करवाने में विशिष्ट सहयोग देने के लिए धन्यवाद ज्ञापन किया। इस अवसर पर प्रो.अमित भाटिया, प्रो.सुखपाल सिंह के साथ अन्य समस्त गणित विभाग उपस्थित था।

Previous articleफ्यूचर टीच इंस्टीट्यूट में की गई शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित
Next articleਸ਼ਹੀਦ ਭਗਤ ਸਿੰਘ, ਰਾਜਗੁਰੂ ਅਤੇ ਸੁਖਦੇਵ ਜੀ ਨੂੰ ਸ਼ਰਧਾਂਜਲੀ ਦਿੰਦੇ ਹੋਏ ਮਾਨਵ ਸੈਣੀ, ਰਾਜੇਸ਼ ਕੁਮਾਰ, ਫੈਕਲਟੀ ਮੈਂਬਰ ਅਤੇ ਵਿਦਿਆਰਥੀ